Breaking News

मोदी ने भारत के भविष्य को लेकर युवाओं के सपनों का जिक्र किया, बोले- भ्रष्टाचार की दीमक को खत्म करें

 मोदी ने भारत के भविष्य को लेकर युवाओं के सपनों का जिक्र किया, बोले- भ्रष्टाचार की दीमक को खत्म करें


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को रेडियो पर 'मन की बात' कार्यक्रम के जरिए देश को संबोधित किया। 2022 में यह 'मन की बात' का पहला एपिसोड था। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- आज बापू की शिक्षा को याद करने का दिन है। पीएम ने भारत के भविष्य को लेकर युवाओं के सपनों का भी जिक्र किया। साथ ही यह भी अपील कि भ्रष्टाचार की दीमक से मुक्त हों।

google news near rajasthan,google news india,google news in hindi,google news covid,google news usa,google news tamil,google news australia


नेशनल वॉर मेमोरियल जाने की अपील की

पीएम ने कहा कि हमने गणतंत्र दिवस पर देश के शौर्य और सामर्थ्य की जो झांकी देखी। अब गणतंत्र का समारोह 8 दिन तक 23 जनवरी यानी नेताजी की जयंती से शुरू होगा और 30 जनवरी यानी गांधीजी की पुण्य तिथि तक चलेगा। हमने देखा कि इंडिया गेट के समीप अमर जवान ज्योति और पास में नेशनल वॉर मेमोरियल की ज्योति को एक किया गया।


इस भावुक अवसर पर शहीद परिवारों की आंखों में आंसू थे। मुझे सेना के कुछ पूर्व जवानों ने लिखा कि शहीदों की स्मृति के सामने प्रज्ज्वलित ज्योति शहीदों की अमरता का प्रतीक है। जब भी अवसर मिले तो अपने परिवार और बच्चों को नेशनल वॉर मेमोरियल जरूर जाएं। आपको अलग ऊर्जा और प्रेरणा का अनुभव होगा।


बाल पुरस्कार और पद्म अवॉर्ड विजेताओं को सराहा

इस दौरान प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार भी दिए गए। उन बच्चों को मिले हैं, जिन्होंने साहसिक कार्य किए हैं। इनके बारे में हमें बच्चों को जरूर बताना चाहिए। अभी पद्म सम्मान का भी जिक्र हुआ है। इनमें ऐसे नाम भी हैं, जिनके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं। इन हीरोज ने साधारण परिस्थितियों में असाधारण काम किए हैं।


उत्तराखंड की बसंती देवी के पति का निधन कम उम्र में हो गया। वे आश्रम में रहने लगीं। उन्होंने नदी बचाने का काम किया और पर्यावरण के लिए असाधारण काम किया। मणिपुर की बिनोदेवी दशकों से लोकल आर्ट का संरक्षण कर रही हैं। इसी तरह मध्य प्रदेश के अर्जुन सिंह ने बैगा आदिवासियों की नृत्य कला को बचाया।


एक करोड़ बच्चों ने लिखे खत

पीएम ने कहा कि मुझे एक करोड़ से ज्यादा बच्चों ने अपने मन की बात लिखकर भेजी है। ये देश-विदेश से आए हैं। इनमें से काफी पोस्टकार्ड को पढ़ने की कोशिश की है। गुवाहाटी से रिद्धिमा ने लिखा कि वे आजादी के 100वें साल में ऐसा भारत देखना चाहती हैं, जो दुनिया का सबसे स्वच्छ देश हो, आतंकवाद से मुक्त हो, 100 फीसदी साक्षर हो। मैं कहता हूं कि हमारी बेटियां जो सपने देखती हैं, वे पूरे होते ही हैं। आपकी युवा पीढ़ी लक्ष्य बनाकर काम करेगी, तो भारत वैसा ही होगा जैसा चाहती हैं।


उत्तर प्रदेश की नव्या लिखती हैं कि 2047 में ऐसा भारत देखना चाहती हैं, जहां सम्मान मिले सभी को, किसान खुशहाल हो और भ्रष्टाचार न हो। इस दिशा में हम आगे बढ़ रहे हैं।


तिरंगे से सजे पोस्टकार्ड का किया जिक्र

मध्य प्रदेश के रायसेन से 10वीं में पढ़ने वाली भावना ने अपने पोस्टकार्ड को तिरंगे को सजाया, क्रांतिकारी शिरीष कुमार के बारे में लिखा है। गोवा के लॉरेंसो ने आजादी के अनसंग हीरोज के बारे में लिखा है। उन्होंने लिखा कि भीखाजी भारतीय स्वतंत्रता संग्रा्म में शामिल सबसे बहादुर महिलाओं में से एक थीं। उन्होंने देश-विदेश में अभियान चलाए। भीखाजी स्वाधीनता आंदोलन की जांबाज महिलाओं में से एक थीं। 1907 में जर्मनी में उन्होंने तिरंगा फहराया था। इस तिरंगे के डिजाइन में उनका साथ श्यामजी कृष्ण वर्मा ने किया था। जेनेवा में श्यामजी का निधन हुआ। उनकी इच्छा थी कि उनकी अस्थियां भारत लाईं जाएं। आजादी के दूसरे ही दिन ये काम होना था, पर ये काम नहीं हो पाया। इस काम का सौभाग्य मुझे गुजरात का मुख्यमंत्री रहते हुए मिला।


उन्होंने चेन्नई से मो. इब्राहिम की तारीफ करते हुए कहा कि जिस देश के पास आप जैसे नौजवान हों, उसके लिए कुछ भी असंभव नहीं है। इब्राहिम ने लिखा था कि वे 2047 में भारत को रक्षा के क्षेत्र में बड़ी ताकत के तौर पर देखना चाहते हैं। वे चाहते हैं कि चंद्रमा पर भारत का रिसर्च बेस हो और मंगल पर आबादी बसे।


विद्यांजलि के लिए मिले डोनेशन को सराहा

शिक्षा को लेकर जागरुकता समाज के हर वर्ग में दिख रही है। त्रिपुर के तायम्मल के पास कोई जमीन नहीं है। बरसों से इनका परिवार नारियल पानी भेजकर गुजर-बसर कर रहा है। उन्होंने अपने बेटे-बेटी को पढ़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। उन्होंने वहां के स्कूल के इन्फ्रास्ट्रक्चर को ठीक करने के लिए बीड़ा उठाया। पैसे की कमी थी। जिन्होंने नारियल पानी बेचकर कुछ पूंजी जमा की थी, उन्होंने एक लाख रुपए स्कूल के लिए दान कर दिए। ऐसा करने के लिए बहुत बड़ा दिल और सेवा भाव चाहिए।


आईआईटी बीएचयू के पूर्व छात्र जय चौधरी ने साढ़े सात करोड़ रुपए डोनेट किए हैं। अलग-अलग क्षेत्रों से जुड़े बहुत लोग हैं, जो दूसरों की मदद कर रहे हैं। बेहद खुशी है कि इस तरह के प्रयास उच्च शिक्षा के क्षेत्र में लगातार मिल रहे हैं। केंद्रीय विश्वविद्यालयों में भी ऐसे उदाहरणों की कमी नहीं है। पिछले साल हमने सितंबर में विद्यांजलि की शुरुआत की है। इसका मकसद देश के स्कूलों की शिक्षा में सुधार लाना है।


कॉलर वाली बाघिन का अंतिम संस्कार

मध्य प्रदेश के पेंच टाइगर रिजर्व में एक बाघिन ने दुनिया को अलविदा कह दिया। वन विभाग ने इसे टी-15 और लोगों ने कॉलर वाली बाघिन नाम दिया था। लोगों को लगा जैसे उनका कोई अपना दुनिया छोड़ गया हो। इसका लोगों ने अंतिम संस्कार किया। दुनिया में प्रकृति और वन्यजीवों के लिए भारतीयों के प्यार के लिए तारीफ की जा रही है। इस बाघिन ने 29 शावकों को जन्म दिया और 25 को पाल-पोसकर बढ़ा किया। भारतीय हर चेतन जीव से संबंध बना लेता है।


विराट की आखिरी परेड और विदाई पर बोले

गणतंत्र दिवस की परेड में प्रेसिडेंट बॉडीगार्ड के चार्जर घोड़े विराट ने अपनी आखिरी परेड में हिस्सा लिया। 2003 में ये घोड़ा राष्ट्रपति भवन आया था। हर बार परेड को लीड करता था। जब विदेशी राष्ट्राध्यक्ष का स्वागत होता था, तब भी वह अपनी भूमिका निभाता था। इस वर्ष आर्मी दिवस पर सेना प्रमुख ने विराट को सम्मान दिया। उसकी विराट सेवाओं को देखते हुए भव्य तरीके से उसे विदाई दी गई।


असम में घटा गैंडे का शिकार

एक सींग वाला गैंडा हमेशा से असमिया संस्कृति का हिस्सा रहा है। भारत रत्न भूपेन हजारिका जी का गीत सबके कानों में गूंजता होगा। इसका अर्थ है काजीरंगा का हराभरा परिवेश, हाथी और बाघ का निवास। एक सींग वाले गैंडे को पृथ्वी देखे, पक्षियों का कलरव सुने। असम की हथकरघा पर बुनी गई पोषाकों में भी गैंडे की आकृति दिखाई देती है। जिसकी इतनी बड़ी महिमा है,उसे भी संकट का सामना करना पड़ता था। तस्कर इन्हें मार डालते थे।


पिछले 7 साल में असम के विशेष प्रयास से गैंडों के शिकार के खिलाफ अभियान चलाया गया। 22 सितंबर को वर्ल्ड राइनो डे के मौके पर तस्करों से जब्त 2400 से ज्यादा सींग जला दिए गए थे। ये तस्करों के लिए सख्त संकेत था। अब असम में गैंडों के शिकार में लगातार कमी आ रही है। 2013 में 37 गैंडे मारे गए थे 2020 में 2 और 2021 में एक गैंडे के शिकार का मामला सामने आया है।


दुनिया में बढ़ रहा भारतीय संस्कृति का आकर्षण

मैं अगर ये कहूं कि भारतीय संस्कृति का लैटिन अमेरिका और साउथ अमेरिका में भी आकर्षण है तो आप सोच में पड़ जाएंगे। मैक्सिको में खादी और ब्राजील में भारतीय परंपराओं को बढ़ाने की बात कर चुके हैं। अर्जेंटीना में हमारी संस्कृति को पसंद किया जाता है। 2018 में वहां की यात्रा के दौरान में मैंने वहां योग प्रोग्राम में हिस्सा लिया। वहां हस्तिनापुर फाउंडेशन है। अचरज होता होगा आपको। यह संस्था भारतीय वैदिक परंपराओं के प्रसार में जुटी है।


एडा 90 साल की है, जो इसे चलाती हैं। जब वे 18 साल की थीं, तब पहली बार भारतीय संस्कृति की शक्ति से उनका परिचय हुआ। उन्होंने गीता और उपनिषदों के बारे में पढ़ा। आज हस्तिनापुर फाउंडेशन के 40 हजार से ज्यादा सदस्य हैं, इसकी 30 ब्रांचेज हैं। इस फाउंडेशन ने स्पेनिशन में 100 से अधिक वैदिक और दार्शनिक ग्रंंथ प्रकाशित किए हैं। आश्रम में 12 मूर्तियां हैं। एक मंदिर अद्वैतवादी ध्यान के लिए बनाया गया है। यह संस्कृति पूरी दुनिया के लिए अनमोल धरोहर है।


यूथ के लिए सेहत और स्पोर्ट्स की सौगात


मैं अब खासकर युवाओं से प्रश्न करना चाहता हूं। आप एक बार में कितने पुशअप कर सकते हैं। मणिपुर में 24 साल के युवा निरंजॉय ने एक मिनट में 109 पुशअप का रिकॉर्ड बनाया है। पहले भी उन्होंने एक मिनट में एक हाथ से नकल पुशअप का रिकॉर्ड बनाया था। आप निरंजॉय से आप प्रेरित होंगे।


लद्दाख को जल्द शानदार ओपन सिंथेटिक ट्रैक और एस्ट्रो टर्फ फुटबॉल स्टेडियम मिलेगा। 10 हजार फीट की ऊंचाई पर बन रहा ओपन स्टेडियम 30 हजार दर्शकों वाला होगा। यहां एक हजार बेड वाले हॉस्टल की सुविधा भी होगी। इस स्टेडियम को फुटबॉल की सबसे बड़ी संस्था फीफा ने भी सर्टिफाई किया है।


बच्चों के वैक्सीनेशन पर बोले

कोरोना की नई लहर से भारत लड़ रहा है। साढ़े चार करोड़ बच्चों ने वैक्सीन ले ली है। 15 से 18 तक के लगभग साठ फीसदी यूथ ने टीके लगवा लिए हैं। इससे युवाओं की रक्षा होगी और वे पढ़ाई जारी रख पाएंगे। 20 दिन में ही एक करोड़ लोगों ने प्रिकॉशन डोज ले ली है। वैक्सीन पर देशवासियों का भरोसा बहुत बड़ी ताकत है। लोग सुरक्षित रहें, आर्थिक गतिविधियों की रफ्तार बनी रहे। मन की बात में कुछ बातें कहे बिना मैं रह ही नहीं सकता हूं। स्वच्छता अभियान, सिंगल यूज प्लास्टिक, वोकल फॉर लोकल, आत्मनिर्भर भारत अभियान को हमें ही बढ़ाना है।


प्रधानमंत्री की अपील- अपना मैसेज रिकॉर्ड करें

प्रधानमंत्री मोदी ने 19 जनवरी को 'मन की बात' के लिए अपने सुझाव और विचार रिकार्ड करने के लिए कहा था। एक ट्वीट में, प्रधानमंत्री ने कहा कि इस महीने की 30 तारीख को, 2022 का पहला 'मन की बात' कार्यक्रम होगा। मुझे यकीन है कि आपके पास प्रेरक जीवन की कहानियों और विषयों के संदर्भ में साझा करने के लिए बहुत कुछ है। उन्हें MyGov.in या नमो ऐप पर साझा करें। साथ ही 1800-11-7800 डायल करके अपना संदेश रिकॉर्ड करें।"

कोई टिप्पणी नहीं